What is Electricity: बिजली क्या है? इसे कैसे खोजा गया, यहां जाने सबकुछ

4 Min Read
What is Electricity

What is Electricity: किसी कार्य को करने की क्षमता को ऊर्जा कहते है। विद्युत ऊर्जा का एक प्रकार है जिसे देख नही सकते लेकिन इसके प्रभाव को देख भी सकते है और महसूस भी कर सकते है।

आधुनिक युग में विधुत (Electricity) बहुत आवश्यक है हमने देखा होगा कि हमारे आस पास चारो ओर विद्युत से चलने वाली मशीनें दिखाई देती है। सैल फोन से लेकर रोशनी में विधुत का इस्तेमाल हो रहा है।यह विद्युत का प्रभाव (electric effect) है जिसे हम ऊर्जा के रूप में खर्च करते है। इसे ही बिजली कहते है।

बिजली क्या है प्रश्न के हजारों जवाब है लेकिन सटीक जवाब मिलना उतना ही जटिल है। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि विधुत को देख नहीं सकते सिर्फ उसके प्रभाव को देख सकते है और महसूस कर सकते है। जिसके सिद्धांत पर आपको किताबो में अलग अलग परिभाषाएं मिलेगी जो सही भी हो सकती है।

छोटे शब्दो मे 

“किसी पदार्थ का बह गुण जिसके कारण बह विधुतमय हो जाए  विद्युत कहलाती है।”

कैसे पता चला यह विद्युत है

लगभगग 600 वर्षो पहले यूनान के वैज्ञानिक थेलिज ने पाया की ऊन के कपड़े रगड़ने से इनमे कुछ गुण आ गया है जिससे यह अपने से यह अपने से हल्के पदार्थो को आकर्षित या प्रतिकर्षित कर सकती है। इससे थेलिज ने अनुमान लगाया कि पदार्थ में कुछ न कुछ आवेश होता है और बही आवेश electricity ( विद्युत) का कारण बनता है।

Types of Electricity: यह कितने प्रकार की होती है?

विधुत को आवेशो के गुणधर्मों के आधार पर दो भागो मे विभाजित किया गया है। चलिए बिजली के प्रकार को भी जान लेते है।

1. Static Electricity (स्थेतिक विद्युत)

इसे हम आवेश के विराम अवस्था के रूप में जानते है। स्थेतिक विद्युत में आवेश स्थिर रहता है इसे गति करने के लिए कोई भी पाथ नही मिलता। स्थेतिक विद्युत में आवेश गति नही कर सकते यह सिर्फ स्थानानंतरित होते है।

इनके प्रचालन में किसी माध्यम की जरूरत नही होती। और इन्हे किसी एक स्थान से दूसरे स्थान तक नही पहुंचाया जा सकता है। यही वजह है कि स्थेतिक विद्युत का उपयोग नही होता।

स्थेतिक विद्युत प्रमुख उदाहरण आकाशीय बिजली है। जो बिना की पाथ के स्थानानंतरित होती है यह प्रवाहित नही होती।

2. Dynamic Electricity (गतिशील विद्युत)

किसी चालक में प्रवाहित हो रहे आवेश को हम Dynamic Electricity ( गतिशील विद्युत) कहते है। यहां आवेश गति करता है और इसके लिए किसी माध्यम की जरूरत होती है।

गतिशील विद्युत को केबिल तारो द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर बड़ी आसानी से भेजा जा सकता है। आजकल गतिशील विद्युत का ही उपयोग हो रहा है।गतिशील विद्युत दो प्रकार का के होते है AC और DC।

मीटर में बिजली बिल कैसे देखा जाता है?

बात करे मीटर में बिल देखने को तो आप बड़ी ही आसानी से मीटर में बिल देख सकते है। दिखाए गए इमेज में आपको कुछ नंबर्स दिखाई देंगे जो जो kw में होंगे। यही रीडिंग आपकी बिजली के बिल को निर्धारित करेगी।

What is Electricity: बिजली क्या है | Types of Electricity

अगर आपके  बिजली के मीटर में कुछ इस तरह का मान दिखाई दे रहा है जो ऊपर दिखाए गए पिक्चर से मिलता जुलता होगा। इस नंबर को नोट करेगे। हमारे केस में यह 7 है। बिजली की भाषा में इसे 7 यूनिट बोलेंगे।

आपके प्रदेश में कितने रुपए यूनिट के हिसाब से बिल का भुगतान लिया जाता है इस हिसाब से इसे जांचेंगे। हमारे केस में यह 6 रुपए प्रति यूनिट है। इसलिए कुल बिल 7×6=42 रुपए होगा। इस तरह बड़ी आसानी से आप अपने बिल का अनुमान लगा सकते है।

Share This Article
Leave a comment